हम लोग अक्सर घडी को अपने उल्टे हाथो में पहनते है क्या आपने सोचा है की आखिर हम ऐसा क्यों करतें  है.अगर आपको नही पता है तो आइए आज हम आपको बताते है इसके पीछे का इतिहास और विज्ञान.

पहले के समय मे घड़ी मे पट्टा नही हुआ करता था,पहले चैन वाली घड़ी का ज़्यादा प्रचलन था जिसको लोग अपने जेब मे रखा करतें थें. ये घड़ी बोर वॉर के समय ज़्यादा लोकप्रिय हुआ करती थी, 

काँच के वजह से ये घड़ी ज़्यादा नही चल पाई,फिर लोगो ने घड़ी को अपने उल्टे हाथों मे पहनना चालू कर दिया क्यूंकी वो सीधे हाथ से काम किया करते थे और घड़ी को टूटने से बचाया जा सकता था .

ज़्यादातर लोग सीधे हाथ से काम करते हैं. जब पट्टे वाली घड़ी लोग पहनने लगे, तो उन्हें उल्टे हाथ में पहन कर काम करना ज़्यादा आसान लगने लगा. इससे वो काम करते वक्त उल्टे हाथ से समय देख सकते हैं 

और सीधे हाथ से काम भी कर सकते हैं. कुछ लोग डिजिटल घड़ी भी पहनते हैं, ऐसे में घड़ी में कुछ सेटिंग उल्टे हाथ के मुकाबले सीधे हाथ से ज़्यादा आसान है.

लोग घड़ी उस हाथ में पहनते हैं जिससे वो कम काम करते हैं, Right Handed लोग उल्टे हाथ में और Left Handed लोग सीधे हाथ में पहनना पसंद करते हैं.