एक अच्छी जिंदगी जीने के 10 नियम – 10 Golden Rules for Living Good Life

10 Golden Rules for Living Good Life

दोस्तों स्वागत है  ब्लॉग में क्या आप भी अपनी ज़िन्दगी से परेशान है क्या आपका भी मन नहीं लगता क्या आप भी ज़िंदगी से बोर हो गए है तो दोस्तों बोर होने की कोई जरूरत नहीं क्या आप भी मोटिवेशनल स्टोरी को ढूंढ रहे है या अच्छी ज़िन्दगी जीने के नियम  तो आप सही जगह पर आ गए है आज हम आपका उत्साह बढ़ाने वाले है क्युकी आज हम 10 motivational नियम आपको बताने वाले है जिसे पढ़ने के बाद आपके अंदर एक अलग उत्साह भर आएगा आप भी एक अच्छी ज़िन्दगी जीना सिख जाएंगे बस आपको इन फॉलो करना होगा 

तो दोस्तों आज हम पढ़ते है 10 अच्छी ज़िन्दगी जीने के नियम की हमे ऐसा क्या करते रहना चाहिए जिससे हमे कभी भी निराशा मसहूस नहीं होये और अगर आप इस नियम को अच्छी तरह पूरा करते है तो आप अपनी ज़िन्दगी इंटरेस्ट से और अच्छी ज़िन्दगी जीना सीख जायेंगे 

1.) खुद को पूर्ण बनाये :- अगर आप के पास ही कुछ नहीं है तो भला आप दुसरो को क्या दे सकते हो दुसरो के  बारे में कमेंट करने से पहले या कुछ बोलने से पहले अपने आप को उस तक काबिल बनाईये यह बात बिलकुल सच ही की आप दुसरो को जब तक रौशनी नहीं दे सकते है जब तक खुद के पास रौशनी नहीं है इसलिए आप सबसे पहले अपने आप को इतना परफेक्ट बनाओ उस लेवल तक अपने आप को लेके जाओ की लोग आपको बोलने से पहले सोचे किसी की हिम्मत न हो आप कुछ बोल सके

2.) दिन की शुरुवात सुविचार से करे :- रोज सुबह उठ कर आप खुद को क्या कहते है उसका आपके पुरे दिन की मिजाहज पर पूरा प्रभाव पड़ता है काफी बड़ा असर छोड़ के जाता है आपका पहला विचार तो क्यों न ऐसा किया जाये की आप सुभे उठते ही आप अच्छी चीज़े पढ़े अच्छी चीज़े सुने या कोई ऐसा करो की आपका सारा दिन अच्छा चला जाए में बताता हूँ की आप क्या करो आप सबसे पहले कोई ऐसी चीज़ पढ़ो जो आपके अंदर के एनर्जी पैदा कर दे उस चीज़ को आप अपने मन में मेसूस करो उस चीज़ से आपको जो एनर्जी मिलेगी वो आपके पुरे दिन को परफेक्ट बना देगा 

जरूर पढे:- How to Propose a girl in Hindi | अपने प्यार का इजहार कैसे करें

3.) अपनी गलतियों स्वीकार करे  :- हम इंसान है और गलती इंसान से ही तो होती है लेकिन इसका मतलब यह नहीं की हम गलतियों को करते ही जाये  इसका मतलब यह है की उस गलती से हम सीख कर वो गलती दुबारा न करे अपनी गलती को स्वीकार करना और गलती से सीख लेना जरुरी है इससे आप को खुद को बलेम नहीं करना है बल्कि इस गलती को सुधार कर इस गलती को दुबारा नहीं करूँगा इससे में कुछ सीख कर इससे कुछ बेहतर करूँगा एक अच्छी नयी शुरुवात करूँगा गलती सफलता की एक सीढ़ी होती है जिसे पार किये बिना आप सफलता तक नहीं पहुँच सकते इसलिए अपनी गलती को स्वीकार करे Accept करे और इससे कुछ सीख करे अपनी ज़िंदगी को बेहतर बनाये 

4.) जोखिम से ना डरे  :- देखो चांस तो सबको लेना पड़ता है जोखिम सोच समझकर उठाया जाए तो वो जोखिम ही नहीं है  निर्णय बन जाता है हमारा डिसिशन बन जाता है किसी भी प्रॉब्लम से मत भागिए क्यों आप अपनी ज़िन्दगी को कॉमन ज़िन्दगी की तरह जिये जा रहे है ज़िन्दगी को डर  के साहे में बनाये रखा है कही में कुछ गलत न कर दू इस डर के साहे से ही आपको आगे निकलना है आपने आपने बहुत ऐसे अवसर खो  दिया होगा जहा आप succes हो सकते थे सोचिये 

जरूर पढे:- इन कारणों से खराब हो जाते है अच्छे-खासे रिश्ते

5.) अवसर का महत्व समझे :- अगर आप यह समझे की में सफल कैसे होता न तो मेरे पास सुविधा है न कोई मेरा नसीब है न कोई मेरे पास  पैसे है न ही मेरा किसी ने साथ दिया तो आप खुद को दोखा दे रहे हो ज़िन्दगी में सभी को सफलता के अवसर मिलते है कहि न कही आपको एक मौका तो मिला ही होगा की आपको कुछ कर दिखाने का मौका मिला ही होगा बस किसी को काम तो किसी को ज्यादा मिलता है इन अवसरों को पहचाना उस पर ध्यान देना वही तो सफलता का पहला कदम होता है और उसे पाने के लिए आपके अंदर कॉन्फिडेंस होना जरुरी है की आपको कॉन्फिंडेंस होना चाहिए जो करने वाले है वो बेस्ट होगा और जो भी आप करंगे उसमे अपना बेस्ट देंगे इसलिए आप को समझना होगा की कोनसी जगह पर आपको अपना 100  परसेंट देना है अवसर के महत्व को समझना होगा 

6.) परेशान ना हों :- बस ज़िंदगी ने कहीं दुख दिए नहीं कि उससे लड़ने से पहले ही हार को दर्शाते हुए हाथ खड़े कर दिए। बड़े-बुज़ुर्गों ने सही तो कहा है कि ज़िंदगी हमें अपने हर एक पड़ाव पर एक सीख दे जाती है, मज़ा तो तब है जब हम उस सीख को सकारात्मक व्यवहार से अपनाते हुए अगले पड़ाव की ओर बढ़ चलें।

7.) ज़िंदगी में कई रास्ते आते हैं :- इसमें कोई दो राय नहीं कि ज़िंदगी में ऐसे कई रास्ते आते हैं जहां पहुंचकर हमें आगे कोई मार्ग दिखाई नहीं देता। लेकिन वहीं हम सब्र रखें और ध्यानपूर्वक कोशिश करें तो कई बार हमें ऐसा कोई मोड़ जरूर दिख जाता है जो हमारे लिए एक नया मार्ग बनता है। यह हमारी अंदरूनी ताकतें ही तो हैं जो हमें कठिनाइयों से लड़ने की शक्ति देती हैं, लेकिन यदि आप भी अपनी ताकत भूल चुके हैं तो हम याद करवा देते हैं।

जरूर पढे:- Kiss करते वक्त न करे ये हरकत वरना आप पड़ सकते है मुसीबत

8.) चिंता :- या फिर जल्द ही किसी को भी अपना दुश्मन मानकर उसके प्रति हीनभावना को मन में बसा लेते हैं। लेकिन खुश तो आप तब रहेंगे जब चिंता करने के साथ दुख की भावना उत्पन्न करने जैसी बातों से भी दूर रहेंगे। यदि आपसे कोई कुछ कह दे तो उसे या तो उस मतभेद को उसी पल हल कर लें नहीं तो उसके बारे में भविष्य में सोचने का विचार ना करें।

9.) मार्गदर्शन :- यदि आप आंख मूंदकर किसी रास्ते पर चल रहे हैं तो ज़ाहिर है कि कहीं टक्कर खा जाएंगे या फिर गिर पड़ेंगे। बस यही सीख हमें ज़िंदगी सिखाती है। यदि जीवन के छोटे-छोटे रास्तों पर मार्गदर्शन से चलेंगे तथा कुछ बातों को समझते हुए आगे बढ़ेंगे तो ही सही जीवन व्यतीत करेंगे।

10.) इंसान का जज़्बा :- इंसान में कुछ कर दिखाने का जज़्बा दो-तीन कारणों से ही उत्पन्न होता है। पहला जब वो खुद के लिए कुछ करना चाहता है और दूसरा जब वह अपने अपनों के लिए कुछ करना चाहता है। तो आप किसके लिए ज़िंदगी में ऊंचाई को छूना चाहते हैं, यह निश्चित कर लें।

आखिर में (निष्कर्ष)

दोस्तों आज की मोटिवेशनल नियम कैसे लगे में आशा करता हु आपको यह पसंद आये होंगे इसे पढ़ने के बाद आपको अच्छा महसूस कर रहे होंगे और कुछ कर दिखने का जज्बा जाग गया होगा आप के यह पोस्ट कितनी परसेंट काम आयी है आप इसे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है 

Sharing Is Caring:

Leave a Comment